Nikkei 225 (निक्केई 225) सूचकांक की ट्रेडिंग

Nikkei 225 टोक्यो स्टॉक एक्सचेंज का सर्वाधिक उद्धृत किया जाने वाला सूचकांक है और इसकी तुलना यूएस के डाउ जोंस इंडस्ट्रियल एवरेज से की जा सकती है।  इसका नाम निक्केई न्यूज़पेपर के बाद रखा गया जिसने 1950 में सूचकांक की गणना प्रारंभ की थी। Nikkei सूचकांक में विभिन्न उद्योगों वाली 225 जापानी कंपनियां शामिल हैं। उल्लेखनीय कंपनियों में टोयोटा, ब्रिजस्टोन, किक्कोमैन, और पैनासोनिक शामिल हैं। 

डाउ की तरह, निक्केई कीमत-भारित है; 50 डॉलर पर ट्रेड किया जाने वाला स्टॉक 10 डॉलर पर ट्रेड किए जाने वाले स्टॉक की तुलना में कुल सूचकांक को 5 गुना अधिक प्रभावित करेगा। इससे बड़ी कंपनियों को सूचकांक की हलचल पर अधिक नियंत्रण होता है। 

Nikkei 225: आपको क्या जानना चाहिए

  • Nikkei सूचकांक सर्वाधिक ट्रेड किए जाने वाले सबसे अस्थिर सूचकांक के रूप में विख्यात है और कीमतों में तेज़ हलचल की संभावना रहती है। 2013 में, Nikkei ने 10,600 के आसपास शुरुआत की, 15,942 तक पहुंचने के बाद इसमें 10% की गिरावट हुई और फिर इसमें उछाल आया। विशेषज्ञों ने कहा है कि Nikkei की ट्रेडिंग करना साहसी, अनुभवी ट्रेडरों का काम है। 
  • जापान की अर्थव्यवस्था निर्यात आधारित है, अधिकतर युनाइटेड स्टेट्स को। यह दोनों अर्थव्यवस्थाओं को इस तरह जोड़ता है कि Nikkei यूएस के बाज़ारों और सूचकांकों की हलचलों का अनुसरण करता है। 
  • Nikkei की ट्रेडिंग करने के लिए यूएस के बाज़ारों पर सावधानीपूर्वक नज़र रखना ज़रूरी होता है। अगर डाउ ऊपर चढ़ता है, तो Nikkei आमतौर पर अगले दिन ऐसा ही करेगा। 
  • इसकी वजह से, दिन के सही समय पर ट्रेडिंग करना बेहद महत्वपूर्ण होता है। पिछले दिन के रुझानों का लाभ प्राप्त करने के लिए टोक्यो के ट्रेडिंग दिवस के पहले घंटे में ट्रेड करना महत्वपूर्ण होता है। एक अच्छा सामान्य नियम यह है कि अगर डाउ ऊपर चढ़े तो खरीदें और अगर नीचे जाए तो बेचें। 
  • Nikkei वैश्विक घटनाओं से प्रभावित होता है जैसे प्राकतिक आपदाएं, युद्ध, राजनीतिक अशांति और आर्थिक समाचार। यह यूएस और जापान के आर्थिक डेटा का भी अनुसरण करता है, जिसमें बेरोज़गारी की दरें, रोज़गार सृजन, ब्याज दरें, जीडीपी के आंकड़े, और अन्य आर्थिक बेंचमार्क शामिल है।

Nikkei 225 को ट्रेड करें